इस साल मैरिज एनिवर्सरी नहीं मनाएंगे Dilip Kumar और सायरा बानो, इमोशनल कर देने वाली है वजह

मुंबई। बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार (Dilip Kumar ) और उनकी पत्नी अभिनेत्री सायरा बानो ( Saira Banu ) इस साल 11 अक्टूबर को पड़ने वाले शादी की सालगिरह ( Marriage Anniversay ) को नहीं मानएंगे। सायरा ने शुक्रवार को दिलीप कुमार के ट्विटर अकाउंट से पोस्ट कर इसकी जानकारी दी। साथ ही, सालगिरह नहीं मनाने की वजह भी बताई।

यह भी पढ़ें: एक्र्टेस Shikha Malhotra 6 महीने से कर रहीं थी कोविड-19 मरीजों की सेवा, खुद हो गईं कोरोना पॉजिटिव

सायरा बानो की तरफ से दिए गए संदेश में लिखा गया कि,’अक्टूबर 11 मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण दिन रहा है। ये वही दिन है जब दिलीप साहब ने मुझसे शादी की थी और मेरे जीवन का सपना सच हुआ था। इस साल हम लोग सालगिरह नहीं मना रहे हैं। सभी जानते हैं कि हमने दो भाइयों एहसान भाई और असलम भाई को खो दिया है। कोरोना वायरस के चलते कई सारे परिवारों ने कई सारे लोगों को खो दिया है। इस कठिन समय में हमारा आप लोगों से निवेदन है कि हम सभी एक दूसरे कि सुरक्षा और बेहतरी के लिए भगवान से प्रार्थना करें। उम्मीद करती हूं कि भगवान हम सबका साथ दे। सुरक्षित रहें।’

शादी को 54 साल होंगे पूरे

Also read  Disha Patani ने खत्म की फिल्म 'राधे' की शूटिंग, सलमान खान के साथ आएंगी नजर

बता दें कि दिलीप कुमार और सायरा ने 11 अक्टूबर, 1966 को शादी की थी। इस साल 11 अक्टूबर को उनकी शादी के 54 साल पूरे हो जाएंगे। 30 सितंबर को दिलीप कुमार ने अपने अकाउंट पर पिंक कलर के कपड़ों में अपनी और सायरा की फोटो शेयर की थी। इस फोटो में दोनों टहलते नजर आ रहे हैं। फोटो के कैप्शन में उन्होंने लिखा,’गुलाबी रंग का मेरा फेवरिट शर्ट। भगवान की दया हम सब पर रहे।’

यह भी पढ़ें: रिलेशन कन्फर्म होने से 1 महीने पहले Neha Kakkar और रोहनप्रीत का हो गया था रोका! देखें वायरल तस्वीर

दिलीप कुमार की पुश्तैनी हवेली

बता दें कि हाल ही राज कपूर की पाकिस्तान के पेशावर में पुश्तैनी हवेली के संरक्षण का फैसला किया वहां की सरकार ने किया है। दो साल पहले ऋषि कपूर ने पाकिस्तान सरकार से इस हवेली को म्यूजियम में तब्दील करने की मांग की थी, लेकिन तब कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला था। अब इस हवेली के साथ-साथ दिलीप कुमार की पुश्तैनी हवेली को भी पुरातत्व विभाग को सौंपने वाली है, ताकि इन्हें म्यूजियम के तौर पर संरक्षित किया जा सके। बुरी तरह जर्जर हो चुकीं दोनों हवेलियां कई साल से बंद पड़ी हैं। भारतीय सिनेमा की इन दोनों हस्तियों का जन्म इन्हीं हवेलियों में हुआ था। विभाजन से पहले ही दोनों मुम्बई आ गए थे।


Source Link

Pin It on Pinterest

Share This