कंगना रनौत ने ‘Thalaivi’ के लिए बढ़ाया था 20 किलो वजन, अब कम करने की तैयारी

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ( Kangana Ranaut ) ने अपकमिंग मूवी ‘थलाइवी’ ( Thalaivi Film ) में तमिलनाडु की दिवगंत मुख्यमंत्री जयललिता का किरदार निभाने के लिए 20 किलो वजन बढ़ाया था। अब फिल्म की शूटिंग करीब-करीब पूरी हो चुकी है और कंगना अपना बढ़ाया हुआ वजन कम करने के लिए तैयारी कर रही हैं। एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए यह जानकारी फैंस को दी है।

यह भी पढ़ें : बॉलीवुड प्रोडक्शन हाउसेज ने किया चैनलों पर केस, Kangana Ranaut बोलीं- मुझ पर भी केस कर दो, जब तक जिंदा हूं…

कंगना ने लिखा,’मैंने ‘थलाइवी’ के लिए 20 किलोग्राम वजन बढ़ाया था। अब मूवी की शूटिंग पूरी होने को है, तो मुझे पहले वाली साइज, फुर्ती, मेटाबॉलिज्म और लचीलापन वापस लाने की जरूरत है। इसके लिए मैं जल्दी उठकर वॉक पर जा रही हूं… कौन-कौन मेरे साथ हैं?’

फोटोज की शेयर
हाल ही कंगना ने अपनी मूवी के एक शेड्यूल के पूरा होने की जानकारी सोशल मीडिया पर दी थी। इसमें उन्होंने लिखा, ‘जया मां के आशीर्वाद से ‘थलाइवी’ का एक और शेड्यूल पूरा हो गया है। कोरोना के बाद कई चीजों में बदलाव आया है लेकिन एक्शन और कट के बीच कुछ नहीं बदला। टीम को धन्यवाद।’ इसी पोस्ट में कंगना ने तीन ब्लैक एंड वाइट फोटोज भी शेयर की थीं जिनमें उनका जयललिता का लुक नजर आया।

अगली फिल्म ‘तेजस’
कंगना की अपकमिंग फिल्म ‘तेजस’ ( Tejas Film ) है। इसमें वह एयरफोर्स पायलट के रोल में नजर आएंगी। इस मूवी का निर्देशन सर्वेश मेवाड़ा करेंगे। निर्माता रोनी स्क्रूवाला हैं। इस मूवी की शूटिंग इस साल दिसंबर में शुरू की जाएगी। इस संबंध में कंगना ने अगस्त में जानकारी शेयर की थी। ‘तेजस’ के अलावा कंगना की एक और मूवी निर्देशक के रोल में सामने आएगी। यह मूवी बाबरी मस्जिद-राम मंदिर पर मामले पर आधारित है। फिलहाल इसका टाइटल ‘अपराजित अयोध्या’ ( Aparajitha Ayodhya ) रखा गया है। इससे पहले कंगना ‘मणिकार्णिका’ फिल्म का निर्देशन कर चुकी हैं।

तनिष्क के नए विज्ञापन को बताया शर्मनाक
हाल ही तनिष्क के एक विज्ञापन पर विवाद हुआ है। इसमें एक हिन्दू बहू को मुस्लिम घर में अपनी परम्पराएं निभाने का मौका दिया जाता है। इसी से लोग खफा हैं। इस पर कंगना का कहना है,’हमारे अंतकरण में ये क्रिएटिव आतंकी क्या घुसेड़ रहे हैं, इसके प्रति सजग होने की जरूरत है। हमें इस तरह की सोच पर विचार, डिबेट और इसके परिणाम पर ध्यान देना चाहिए। यह विज्ञापन कई स्तरों पर गलत है। इसमें कहने की कोशिश की गई है कि बहू लम्बे समय से साथ रह रही है, लेकिन उसे घर में तभी स्वीकार्यता मिलती है, जब वह उनके वारिस को जन्म देने वाली है। क्या वह एक गर्भाशय भर है? यह विज्ञापन न केवल लव-जिहाद बल्कि सेक्सिजम को भी को प्रोत्साहित करता है।’ वह आगे लिखती हैं कि इसके विचार पर इतनी समस्या नहीं है जितनी इसके क्रियान्वयन पर है। डरी हुई हिन्दू लड़की अपने धर्म की स्वीकार्यता पर अपने ससुरालवालों के प्रति कृतज्ञता जताती है, क्या वह उस महिला का घर नहीं है? वह उनकी दया पर क्यों है? अपने ही घर में सहमी और डरी हुई क्यों है। शर्मनाक।’

Also read  Jagjit Singh Death Anniversary: लता मंगेशकर भी हैं जगजीत सिंह की गजलों की बड़ी फैन, लाइव सुनने के लिए लिया था टिकट


Source Link

Pin It on Pinterest

Share This