कल तक जिस मैथिली फिल्म को कोई पूछ नहीं रहा था, अब लूट रही है सितारों की तारीफ

-दिनेश ठाकुर

औबेदुल्लाह अलीम के शेर हैं- ‘तुम आस बंधाने वाले थे/ अब तुम ही हमें ठुकराओ तो क्या/ जब देखने वाला कोई नहीं/ बुझ जाओ तो क्या, जल जाओ तो क्या।’ अगर कोई सलीकेदार फिल्म बनाई जाए और उसे दर्शकों तक पहुंचाने का रास्ता नहीं मिले, तो इसे बनाने वालों की पीड़ा को समझा जा सकता है। मैथिली फिल्म ‘मिथिला मखान’ ( Mithila Makhaan Movie ) से जुड़े लोग चार साल से इसी पीड़ा से गुजर रहे थे। इसे 2016 में मैथिली भाषा की सर्वश्रेष्ठ फिल्म के नेशनल अवॉर्ड ( National Award ) से नवाजा गया था। कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में यह शिरकत कर चुकी है। इसके बावजूद न इसे सिनेमाघर नसीब हुए, न किसी ओटीटी प्लेटफॉर्म ने इसमें दिलचस्पी दिखाई। आखिर इसकी निर्माता नीतू चंद्रा ( Neetu Chandra ) और उनके निर्देशक भाई नितिन चंद्रा ने खुद का ओटीटी प्लेटफॉर्म तैयार कर गांधी जयंती पर फिल्म का डिजिटल प्रीमियर कर दिया। विडम्बना देखिए कि कल तक जिस फिल्म पर कोई ध्यान नहीं दे रहा था, अब कई सितारे उसकी तारीफों के पुल बांध रहे हैं। ऋतिक रोशन ( Hrithik Roshan ) ने कुछ दिन पहले ट्वीट कर इस फिल्म की टीम को बधाई दी। जैकी श्रॉफ, मनोज वाजपेयी, विद्या बालन, नवाजुद्दीन सिद्दीकी और सोनू सूद भी तारीफ करने वालों में शामिल हैं।

हिन्दी की ‘गरम मसाला’, ‘ट्रैफिक सिगनल’, ‘अपार्टमेंट’ और ‘नो प्रॉब्लम’ में बतौर अभिनेत्री काम कर चुकीं नीतू चंद्रा की ‘मिथिला मखान’ बिहार में 2008 में कोसी नदी की विनाशकारी बाढ़ की पृष्ठभूमि पर आधारित है। प्राकृतिक आपदाएं आम लोगों की जिंदगी पर कैसे-कैसे दूरगामी प्रभाव छोड़ जाती हैं, फिल्म रील-दर-रील इनकी तस्वीरें पेश करती है। उस बाढ़ के वक्त नितिन चंद्रा ने बिहार-नेपाल सीमा पर राहत कार्यों में सहयोग किया था। उसी दौरान वे बिहार के लोगों के विस्थापन की त्रासदी से रू-ब-रू हुए, जो इस फिल्म का आधार बनी। सिनेमा तकनीक के लिहाज से भी यह उल्लेखनीय फिल्म है। अफसोस की बात है कि सिर्फ नफे की गणित समझने वाला फिल्म बाजार ऐसी फिल्मों के प्रति आंखें मूंदे रहता है। वह उन भोजपुरी फिल्मों के इर्द-गिर्द लट्टू की तरह घूमता है, जिनमें अश्लील दृश्यों और द्विअर्थी गानों की भरमार होती है।

Also read  ड्रग मामले में कन्नड़ एंकर और एक्ट्रेस Anushree को मंगलुरु पुलिस ने भेजा समन, किशोर अमन शेट्टी की हैं करीबी

यह भी पढ़ें: — Viral Video पर आए गंदे कमेंट्स पर नोरा फतेही ने लगाई लताड़, टेरेंस ने सुनाई साधु की कहानी

रामायण में सीता को मिथिला प्रदेश के राजा जनक की पुत्री बताया गया है। आज बिहार, झारखंड और नेपाल के कुछ हिस्सों को मिथिला क्षेत्र कहा जाता है। मैथिली इसी क्षेत्र की भाषा है, जो भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल है। रामधारी सिंह दिनकर, फणिश्वर नाथ रेणू, नागार्जुन, देवकीनंदन खत्री, रामबृक्ष बेनपुरी, विद्यापति, शारदा सिन्हा, उदित नारायण आदि हस्तियां मिथिला क्षेत्र से ही उभरीं। ब्रिटिश लेखक जॉर्ज ऑरवेल का जन्म भी इसी क्षेत्र में हुआ था। साहित्य और सिनेमा के इतने बड़े नामों से जुड़े इस क्षेत्र की फिल्में पहचान के संकट से जूझ रही हैं। मैथिली सिनेमा का उस तरह विकास नहीं हो पाया, जैसा भोजपुरी सिनेमा का काफी पहले हो चुका है।

यह भी पढ़ें: – यूजर बोला, ‘सिनेमाघर खुलें या नहीं, आप तो बेकार ही रहोगे’, Abhishek Bachchan ने दिया करारा जवाब

पहली मैथिली फिल्म ‘ममता गावैन गीत’ 1962 में बनी थी। इसमें रवींद्र नाथ टैगोर के गीतों को गीता दत्त, सुमन कल्याणपुर और महेंद्र कपूर ने गाया था। निर्देशक फणि मजूमदार की ‘कन्यादान’ (1965) भी उल्लेखनीय मैथिली फिल्म है। दुर्भाग्य यह रहा कि वितरण और विपणन के मोर्चे पर इन दोनों फिल्मों ने मात खाई। इसीलिए 58 साल में मैथिली फिल्मों की संख्या दहाई के अंक तक नहीं पहुंच सकी है। पिछले साल मुम्बई फिल्म समारोह (मामी) में निर्देशक अचल मिश्रा की मैथिली फिल्म ‘गमक घर’ ने सुर्खियां तो बटोरीं, लेकिन इसे भी सिनेमाघर नसीब नहीं हुए। यही हश्र चार साल पहले निर्देशक प्रशांत नागेन्द्र की ‘ललका पाग’ का हुआ था। मैथिली फिल्मकारों को एकजुट होकर अपनी फिल्मों को दर्शकों तक पहुंचाने का रास्ता खोजना चाहिए, वर्ना ‘जंगल में मोर नाचा, किसने देखा।’

Also read  Sapna Choudhary के पति वीर साहू के खिलाफ पुलिस ने दर्ज की शिकायत, कोरोनावायरस फैलाने का लगा आरोप


Source Link

Pin It on Pinterest

Share This