थियटर नहीं, कार में बैठकर देख सकते हैं ईशान और अनन्या की फिल्म ‘खाली पीली’, इतनी महंगी होगी टिकट

ईशान खट्टर और अनन्या पांडे ( Ishaan Khatter and Ananya Panday ) स्टारर फिल्म ‘खाली पीली’ ( Khaali Peeli) 2 अक्टूबर को एक साथ मल्टी फॉर्मेंट में रिलीज हो रही है। अभी सिनेमाघर के खुलने की कोई संभावना नजर आ रही। इसलिए ‘खाली पीली’ के मेकर्स एक नई पहल सुपरमून ड्राइव-इन की शुरुआत करने जा रहे हैं, जिसके लिए फैंस उत्साहित हैं। दरअसल, ‘खाली पीली’ 2 अक्टूबर को जी प्लेक्स पर रिलीज हो रही है। इस फिल्म का गुरुग्राम ( Gurugram) और बेंगलुरु (Bengaluru ) में ड्राइव-इन थियेटर्स में एक साथ प्रीमियर होगा। ड्राइव इन प्रीमियर के दौरान दर्शकों को अपनी कारों में सेफ्टी के साथ फिल्म दिखाई जाएगी। इस दौरान एक कार में केवल दो ही सदस्य को परमिशन मिलेगी।

मकबूल खान द्वारा निर्देशित, खाली पीली का निर्माण हिमांशु मेहरा, अली अब्बास जफरा और जी स्टूडियो द्वारा किया गया है। स्वरूप बनर्जी जो कि जी लाइव के सीओओ और बिजनेस हेड हैं उन्होंने खुलासा किया कि वे तीन दिनों में 10 शो कर चुके हैं। स्वरूप बनर्जी ने कहा कि, ‘ड्राइव-इन प्रीमियर दर्शकों को बेंगलुरु के फीनिक्स मार्केट सिटी और गुरुग्राम के बैकयार्ड स्पोर्ट्स क्लब में अपनी कारों की सेफ्टी के साथ फिल्म देखी जा सकती हैं।’

स्वरूप बनर्जी ने आगे कहा कि, ‘हर एक स्क्रीनिंग में 250 से अधिक लोग बैठ सकते हैं। गुरुग्राम वेन्यू में 145 कारों की क्षमता है। चूंकि राज्य प्रोटोकॉल हर एक कार में केवल दो लोगों को रखने की सिफारिश करता है तो हमारे पास लगभग 290 लोग होंगे, जबकि बेंगलुरु में दर्शकों की संख्या 250 से 280 के बीच होगी। हम लोगों के रिएक्शन के आधार पर कई शहरों में ड्राइव-इन स्क्रीनिंग की व्यवस्था कर सकते हैं। जहां खाली पीली डिजिटल प्लेटफॉर्म पर 299 रुपए में देखने के लिए उपलब्ध होगी, ड्राइव-इन टिकटों की कीमत प्रति वाहन 999 रुपर रखी गई है।’

Also read  करण जौहर सहित ​फिल्म निर्माताओं का पीएम मोदी को नोट, वीरता, मूल्यों व भारत की संस्कृति के बारे में बनाएंगे फिल्में


Source Link

About Kabir Singh

Hello and thank you for stopping by T3B.IN! Here you will find the most rated, Bollywood, Hollywood, Entertainment related news articles by me, Kabir Singh, creator of this news website. Founder of T3B.IN. I love to share new things with people.

View all posts by Kabir Singh