राजस्थान में पुजारी को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया, एक्टर रितेश देशमुख ने जाहिर किया गुस्सा

नई दिल्ली: राजस्थान के करौली से शुक्रवार को एक हिला देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक 50 वर्षीय पुजारी को छह दबंगों ने पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया। जिसके बाद से करौली गांव में इस घटना को लेकर लोगों में काफी गुस्सा है। परिवार और गांव वालों की मांग है कि आरोपियों को कड़ी सजा देनी चाहिए। इस मामले को लेकर लोगों के रिएक्शन सामने आ रहे हैं। वहीं अब बॉलीवुड एक्टर रितेश देशमुख ने भी इस मुद्दे पर अपनी बात कही है।

KBC 12: पिता को याद कर इमोशनल हुए Riteish Deshmukh, अंगदान के लिए लिया ये बड़ा फैसला

रितेश देशमुख ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह घटना बेहद ही दुखद और हैरान करने वाली है। रितेश ने लिखा, ‘भूमि विवाद को लेकर राजस्थान में एक मंदिर के पुजारी को जिंदा जला दिया गया, यह दुखद और हैरान करने वाला है। हम किस तरह की बर्बर दुनिया बन रहे हैं? उम्मीद है कि इस भयावह घटना के आरोपियों को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा और न्याय होगा। शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना।’ उनके इस ट्वीट पर लोग अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

हाथरस केस: आरोपी ने लड़की की मां और भाई पर लगाए गंभीर आरोप, Javed Akhtar का फूटा गुस्सा

एक यूजर ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘एक दबे कुचले दलित द्वारा, एक दबंग पुजारी का महल ढाह दिया 15 बीघा का साम्राज्य पाने के लिए बहुत ही दबंग ( सीने की पसलियां दिखती हुई रक गरीब , बुजुर्ग ब्राह्मण) को मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी, क्या इसिलये इन गिद्ध को आरक्षण दिया है।’ दूसरे यूजर ने लिखा, ‘इतना बड़ी हृदय विदारक घटना होने के बाबजूद भी यह सरकार सोती रहती है तो इससे बेकार और शर्म की बात नहीं हो सकती है।’ वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘सर अशोक गहलोत सरकार इंसाफ पसंद सरकार है योगी बाबा जैसे सरकार नहीं जो बलात्कारियो का साथ दे और उन्हें बचाए।’

Also read  Amitabh Bachchan की वायरल तस्वीर में दाऊद इब्राहिम के होने का दावा, अभिषेक बच्चन को सच्चाई बताने आगे आना पड़ा

बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गोहलत ने परिवार को 10 लाख का मुआवजा और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का आश्वासन दिया है। जिसके बाद परिवार ने शव का अंतिम संस्कार किया है। इसके साथ ही आरोपियों की मदद करने वाले पटवारी और एसएचओ को भी निलंबित कर दिया गया है। बाबूलाल वैष्णव सपोटरा तहसील के बूकना गांव के पुराने राधाकृष्ण मंदिर में पूजा करते थे। गांव के ही लोगों ने मंदिर के लिए अपनी जमीन दान में दी थी। लेकिन एक महीने पहले कुछ लोग जमीन पर कब्जा करने लगे। पुजारी ने इसकी शिकायत पंच पेटेलों से की थी।


Source Link

Pin It on Pinterest

Share This