शेखर कपूर की नियुक्ति से बढ़ गईं उम्मीदें, शायद मिले कुछ ऑक्सीजन

—दिनेश ठाकुर

पुणे में भारतीय फिल्म एवं टीवी संस्थान (एफटीआईआई) के विशाल परिसर में एक घना पेड़ है, जो ‘विज्डम ट्री’ (बोधि वृक्ष) के नाम से मशहूर है। इसे ‘कल्प वृक्ष’ भी कहा जाता है, क्योंकि इसके तले बैठकर सृजन और सफलता के सपने देखने वाले जाने कितने छात्र-छात्राओं ने अपनी प्रतिभा से भारतीय सिनेमा को लाजवाब कर दिया। केतन मेहता, विधु विनोद चोपड़ा, प्रकाश झा, पंकज पाराशर, ओम पुरी, नसीरुद्दीन शाह, स्मिता पाटिल, शबाना आजमी, जया बच्चन, मिथुन चक्रवर्ती, रंजीता, रेहाना सुलतान, शत्रुघ्न सिन्हा, रजा मुराद, राजकुमार हिरानी आदि इसी संस्थान की देन हैं। लेकिन कई साल से फिल्म-शिक्षा का यह संस्थान असंतोष और विवादों का केंद्र बना हुआ है। पांच साल पहले गजेंद्र चौहान को FTII का अध्यक्ष बनाए जाने के खिलाफ लम्बी हड़ताल हुई तो पिछले साल प्रवेश और विभिन्न पाठ्यक्रमों की फीस में लगातार बढ़ोतरी को लेकर विद्यार्थी सड़कों पर आ गए। बार-बार होने वाली हड़तालों से संस्थान की गरिमा को ठेस पहुंची है।

यह भी पढ़ें: — Viral Video पर आए गंदे कमेंट्स पर नोरा फतेही ने लगाई लताड़, टेरेंस ने सुनाई साधु की कहानी

संकट से गुजर रहे साठ साल पुराने इस संस्थान में ऑक्सीजन फूंकने के इरादे से सरकार ने फिल्मकार शेखर कपूर ( Shekhar Kapur ) को इसका अध्यक्ष बनाया है। नब्बे के दशक से यहां बदइंतजामी का जो सिलसिला शुरू हुआ था, उसने समस्याओं का पहाड़ खड़ा कर दिया है। हालात 2001 से ज्यादा बिगड़े, जब विनोद खन्ना संस्थान के अध्यक्ष थे। उनके बाद सईद अख्तर मिर्जा, गजेंद्र चौहान, अनुपम खेर और बी.पी. सिंह के कार्यकाल में भी ‘मर्ज बढ़ता गया, ज्यों-ज्यों दवा की’ वाला आलम रहा। मूडी शेखर कपूर के लिए समस्याओं को समतल कर संस्थान को पटरी पर लाना सबसे बड़ी चुनौती है। यहां उससे भी ज्यादा समझ-बूझ और ऊर्जा की दरकार होगी, जो उन्होंने ‘मासूम’, ‘मि. इंडिया’, ‘बैंडिट क्वीन’ बनाने में लगाई थी।

Also read  पति सैम बॉम्बे के साथ Poonam Pandey का रोमांटिक वीडियो वायरल, प्यार भरे पल बिताता दिखा कपल

शेखर कपूर को उन कारणों को भी टटोलना होगा कि जिस संस्थान में कभी सत्यजीत रे, ऋत्विक घटक, डेविड लीन, मणि कौल, बलराज साहनी, ए.के. हंगल और इस्तवां गाल जैसी हस्तियां पढ़ाने आती थीं, वह अब प्राध्यापकों का अभाव क्यों झेल रहा है। विदेशी छोडि़ए, देशी फिल्मकार भी एफटीआईआई से कन्नी काटने लगे हैं। इस तरह के आरोप कई बार लग चुके हैं कि जिन लोगों को संस्थान के संचालन की जिम्मेदारी सौंपी जाती है, उन्हें फिल्म और टीवी का कोई इल्म नहीं होता। कई साल पहले उस समय काफी असंतोष फैला था, जब यह फरमान जारी किया गया कि हर विद्यार्थी के लिए सभी विषयों का अध्ययन करना जरूरी है। यानी जो निर्देशन का कोर्स कर रहा है, वह एक्टिंग, संपादन, फोटोग्राफी, साउंड रेकॉर्डिंग आदि भी सीखे। कई छात्र-छात्राओं की अपने विषय के अलावा दूसरे विषयों में कोई दिलचस्पी नहीं थी। एक्टिंग सीखने वाले ज्यादा थे। उन्होंने फरमान का विरोध किया तो कुछ साल के लिए एक्टिंग कोर्स ही बंद कर दिया गया।

यह भी पढ़ें: — कपिल शर्मा का नया शो 12 अक्टूबर से, अलग अवतार में नजर आएंगे कॉमेडियन

एफटीआईआई में सुविधाओं की कोई कमी नहीं है। काफी बड़ा फिल्म संग्रहालय है, लाइब्रेरी में सिनेमा पर किताबों का भंडार है, थिएटर, खेल का बड़ा मैदान, स्विमिंग पूल, जिम वगैरह भी हैं। बस, एक कुशल प्रशासक चाहिए, जो नौकरशाही पर लगाम कसे और इस संस्थान के अच्छे दिन लौटा लाए। शहरयार ने फरमाया है- ‘कहिए तो आसमां को जमीं पर उतार लाएं/ मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिए।’

Also read  पाकिस्तान में दिलीप कुमार और राज कपूर की हवेलियों के दिन फिरे, देर आयद, दुरुस्त आयद


Source Link

Pin It on Pinterest

Share This