सिनेमा के कट्टर आलोचक थे महात्मा गांधी, कहा था- सिनेमाघर के बजाय चरखा केंद्र खोलना पसंद करूंगा

— दिनेश ठाकुर

एक ही तारीख (2 अक्टूबर) को जन्मे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ( Mahatma Gandhi ) और दिवंगत प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री में ‘सादा जीवन, उच्च विचार’ के साथ-साथ एक समानता यह भी थी कि दोनों की सिनेमा में ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी। शास्त्री जी ने मनोज कुमार की ‘शहीद भगत सिंह’ देखने के बाद उन्हें अपने नारे ‘जय जवान जय किसान’ पर फिल्म बनाने की सलाह दी। मनोज कुमार की ‘उपकार’ पूरी होती, इससे पहले ही शास्त्री जी दुनिया से विदा हो गए। महात्मा गांधी ने सहयोगियों के बहुत दबाव देने पर 1944 में सिर्फ दो फिल्में ‘राम राज्य’ और ‘मिशन टू मास्को’ देखीं जरूर, लेकिन वे शुरू से सिनेमा के कट्टर आलोचक थे। वे सिनेमा को धन और समय की बर्बादी मानते थे। आजादी के बाद एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था- ‘मुझे नहीं लगता कि सिनेमा की नैतिक शिक्षा देने में कोई भूमिका हो सकती है। मैं बगैर वेंटिलेशन वाले सिनेमाघर के अंधेरे में सहज नहीं रह पाता। मैं सिनेमाघरों के बजाय ज्यादा से ज्यादा चरखा केंद्र खोलना पसंद करूंगा।’

यह भी पढ़ें: – यूजर बोला, ‘सिनेमाघर खुलें या नहीं, आप तो बेकार ही रहोगे’, Abhishek Bachchan ने दिया करारा जवाब

क्या सिनेमा के बारे में महात्मा गांधी के विचारों को लेकर भारतीय सिनेमा कई साल तक उनकी उपेक्षा करता रहा? वर्ना क्या वजह थी कि उन पर पहली डॉक्यूमेंट्री और पहली फीचर फिल्म विदेशी फिल्मकारों ने बनाईं। ‘बीसवीं सदी के पैगम्बर : महात्मा गांधी’ नाम की डॉक्यूमेंट्री चीनी पत्रकार, फिल्मकार और सैलानी ए.के. चट्टीएर ने बनाई, जो पहली बार दिल्ली में 15 अगस्त, 1947 को दिखाई गई। इसके 35 साल बाद राष्ट्रपिता की बायोपिक ‘गांधी’ (1982) सिनेमाघरों में पहुंची। संयोग देखिए कि जिस ब्रिटिश हुकूमत को भारत से खदेडऩे के लिए साबरमती के संत ने लम्बी लड़ाई लड़ी, वहीं के फिल्मकार सर रिचर्ड एटनबरो ने यह फिल्म बनाई। इसकी पटकथा उन्होंने 1960 में तैयार कर ली थी। कई अड़चनों के बाद 1980 में फिल्म की शूटिंग शुरू हो सकी। इसके कुछ सीन झीलों के शहर उदयपुर में भी फिल्माए गए। महात्मा गांधी के अंतिम संस्कार का सीन तीन लाख एक्स्ट्रा कलाकारों के साथ फिल्माया गया, जो अपने आप में रेकॉर्ड है।

Also read  ड्रग मामले में एनसीबी से पूछताछ के दौरान दीपिका पादुकोण को दी जाएगी एक्स्ट्रा सिक्योरिटी, आज रात गोवा से चार्टर प्लेन से पहुंचेंगी मुंबई

यह भी पढ़ें: — Viral Video पर आए गंदे कमेंट्स पर नोरा फतेही ने लगाई लताड़, टेरेंस ने सुनाई साधु की कहानी

कम लोगों को पता होगा कि ‘गांधी’ में महात्मा गांधी का किरदार निभाने वाले ब्रिटिश अभिनेता बेन किंग्सले का रिश्ता अपरोक्ष रूप से गांधी के गुजरात से रहा है। उनके पिता डॉ. रहीमतुल्ला हरजी भानजी मूलत: गुजरात के थे और कीनिया में बस गए थे। किंग्सले का असली नाम कृष्णा पंडित भानजी है। उन्होंने फिल्म में गांधी को जिया था। बाद में भारत में भी गांधी पर कुछ फिल्में बनीं (द मेकिंग ऑफ महात्मा, हे राम, गांधी- माय फादर), लेकिन इनमें से किसी का किरदार बेन किंग्सले की ऊंचाई तक नहीं पहुंच सका। ‘गांधी’ में उन्होंने जो चश्मा पहना था, वह उदयपुर के सिटी पैलेस म्यूजियम में रखा गया है।

सर्वश्रेष्ठ फिल्म समेत आठ ऑस्कर अवॉर्ड जीतने वाली ‘गांधी’ महज फिल्म नहीं, महात्मा गांधी के जीवन और विचारों का महाकाव्य है। इसमें एक दौर के भारत की धड़कनों को साफ-साफ सुना जा सकता है। वक्त कितना बदल गया है। जिस टोपी के आगे कभी पूरा देश झुकता था, आज उछाली जा रही है। देश जिस दौर से गुजर रहा है, अगर गांधी देख पाते तो शायद रो पड़ते- क्या यही सब देखने के लिए वे तूफान से कश्ती निकाल कर लाए थे?


Source Link

About Kabir Singh

Hello and thank you for stopping by T3B.IN! Here you will find the most rated, Bollywood, Hollywood, Entertainment related news articles by me, Kabir Singh, creator of this news website. Founder of T3B.IN. I love to share new things with people.

View all posts by Kabir Singh →