बर्तनों को धोने में आप भी तो नहीं करते ये वाली गलती? तुरंत छोड़ दें, लिवर कैंसर का है खतरा

Rate this post

Liver Cancer: रसोई में बर्तनों को धोते समय आप बहुत सावधानी बरतें. ऐसा न हो कि आपकी छोटी सी भी लापरवाही आपके परिवार के लिए बहुत बड़ी परेशानी का सबब बन जाए.

आप रसोई में जब बर्तन धोने के लिए डिटर्जेंट लगाते हैं तो उसे साफ पानी से अच्छी तरह धोना न भूलें. ये डिटर्जेंट आपको बहुत बड़ी मुसीबत में भी डाल सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक डिटर्जेंट में हानिकारक केमिकल होता है, जो पेट में जाने से लिवर कैंसर (Liver Cancer) का कारण बन सकता है. मेडिकल एक्सपर्टों का कहना है कि लोगों के शरीर के अंदर कैंसर घर की रसोई से भी पहुंच रहा है, इसलिए उन्हे इसे लेकर बेहद सावधान रहना चाहिए.

बर्तनों को सही ढंग से धोने में न करें लापरवाही

‘द सन’ की रिपोर्ट के मतुाबिक, जो लोग रसोई में बर्तनों को धोने में लापरवाही करते हैं, उनमें कैंसर का खतरा चौगुना हो सकता है. रिसर्चर्स का कहना है कि जिन साबुन और डिटर्जेंट को हम बर्तन धोने के लिए लाते हैं, उन्हें बारीकी के साथ धोना बहुत जरूरी होता है वर्ना वे कटोरी, गिलास, चम्मच, थाली जैसे बर्तनों में चिपके रह जाते हैं. जब हम बर्तनों में कोई खाना खाते हैं या पानी पीते हैं तो उन केमिकल के कण हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं और लिवर (Liver Cancer) में पहुंचकर शरीर को भारी नुकसान पहुंचाते हैं.

See also  ये है धरती पर खाने की सबसे शुद्ध चीज! सदियों से आपकी किचन में हो रहा इस्तेमाल

लिवर कैंसर के बढ़ रहे दुनिया में मामले

लिवर कैंसर पर रिसर्च करने वाले Dr Jesse Goodrich के मुताबिक उन्होंने शोध को आगे बढ़ाने के लिए 100 लोगों को छांटा. उनमें से 50 ऐसे थे, जिन्हें लिवर कैंसर (Liver Cancer) की दिक्कत थी और 50 को ऐसी कोई दिक्कत नहीं थी. इसके बाद दोनों समूह के लोगों के ब्लड सैंपल लेकर उनकी जांच की गई. उसमें पता चला कि जिन लोगों को लिवर कैंसर था, उनके शरीर में केमिकल की मात्रा ज्यादा थी. यह केमिकल पूरी तरह साफ न हुए बर्तन और अन्य वजहों से हमारे शरीर में पहुंच गया और फिर लिवर पर जाकर अटैक किया.

See also  घर पर कर सकते हैं ये 5 आसान फिजिकल एक्टिविटी, जिम से ज्यादा मिलेगा फायदा

शरीर में पहुंच जाते हैं कई तरह के केमिकल

डॉक्टरों के मुताबिक शरीर में पहुंचने के बाद केमिकल कई तरह से नुकसान पहुंचाते हैं. ये शरीर में ग्लूकोज के काम करने के तरीके को बदल देते हैं. साथ ही लिवर में अमीनो एसिड को भी बदल देते हैं. इसके चलते लिवर के चारों ओर ज्यादा फैट बनने लगता है. जिससे इंसान को फैटी लिवर और बाद में लिवर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *