कदम-कदम पर हावी हैं बनावटी उसूल, सच बनाम कागज के फूल

— दिनेश ठाकुरअमरीकी लेखक मार्क ट्वैन का काफी चला हुआ कौल है- ‘सच जब तक जूते पहन रहा होता है, तब तक झूठ आधी दुनिया का चक्कर काट चुका होता …

Read More